Types of Computer in Hindi. कंप्यूटर के प्रकार हिंदी में

Spread the love

Types of Computer in Hindi. Computer ke prakar

नमस्कार दोस्तों आप सभी को आपके वेबसाइट Tech Review Pad में स्वागत करता हु.आज के इस article में हमलोग Types of Computer in Hindi. Computer ke prakar, Computer ke prakar in hindi, personal computer ke prakar टॉपिक के बारे में detail में बाते करेंगे. 

 

दोस्तों अगर आप  एक विद्यार्थी हैं या और कोई ऑफिस में job करता हैं, या आपको computer जैसे टेक्नोलॉजी पे इंटरेस्ट है तो आप  जरूर computer के बारे में जानते होंगे. और आप यह भी जानते होंगे की सारे computer एक जैसे नहीं होते हर एक computer के अलग-अलग specification और feature होते हैं. किसी computer को storage के रूप में use किया जाता है, तो कोई computer की processing power fast होती है, अगर हम कोई computer को अपने साथ carry करना चाहते हैं तो वो computer का साइज छोटा होना चाहिए.  इससे हमें यह पता चलता है कि हर एक computer की processing power,  storage या size  एक जैसे नहीं होते  इन सारे computer में कार्य करने की क्षमता अलग-अलग होती है. जैसे अगर हम एक उदाहरण ले लें तो:-

 

एक computer है जिसको server के रूप में use किया जा रहा है तो उसकी storage capacity ज्यादा होनी चाहिए. और एक computer है जिसमें हमें High Graphic वाले काम करने हैं तो उसकी processing speed fast होनी चाहिए नहीं तो उस computer के काम करने की क्षमता कम होगी. तो दोस्तों मेरे को लगता है कि आपका समझ आ गया होगा भी computer को विभिन्न भागों में क्यों बाँटा गया है. 

 

Types of Computer in Hindi. Computer ke prakar

 

 Computer क्या है?

 

दोस्तों computer के प्रकार जानने से पहले हम लोग संक्षेप में यह जान लेते हैं कि computer क्या है:-

computer एक प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस होता है. जो हमारे द्वारा दिए गए Data को Input device की मदद से collect करता है और उसे process करने के बाद output divide की मदद से हमें   परिणाम प्रदान करता है.

Computer काम कैसे करता है?

 

दोस्तों एक computer को काम करने के लिए सबसे पहले वह हमारे द्वारा  दिए गए input data को वह computer ग्रहण करता है उसके बाद उस  input data को computer के  processor की मदद से process करता है उसके बाद उस process किए हुए  data को computer में उपस्थित output device की मदद से हमारे लिए  result प्रदान करता है.

जरूर पढ़ें:-  computer क्या है? पूरे विस्तार में हिंदी में जानकारी

दोस्तों मुझे आशा है कि आप सभी को computer क्या है और कैसे काम करता है के बारे में  संक्षेप में लिखा हुए लेख की मदद से आप समझ चुके होंगे.  अब दोस्तों में आगे बढ़ते हैं और Types of Computer in Hindi. कंप्यूटर के प्रकार के बारे में विस्तार में जानकारी  हासिल करते हैं तो दोस्तों चलिए शुरू करते है:-

Computer ke prakar. Types of Computer in Hindi.

दोस्तों जैसे मैं बता चुका हूं की computer को विभिन्न Size, speed, storage और  विभिन्न काम करने के उद्देश्य के हिसाब से बाँटा गया है तो दोस्तों आज के इस Topic में हम लोग computer के सभी प्रकार के बारे में समझेंगे:-

 

दोस्तों Computer को तीन महत्वपूर्ण भागों में बाँटा गया है:-

 

1. कार्य प्रणाली के आधार पर (Based on Mechanism) 

2. उद्देश्य के आधार पर (Based on Purpose)

3. आकार के आधार पर (Based on Size)

 

कार्यप्रणाली के आधार पर Computer kitne prakar ke hote hain?

1.कार्य प्रणाली के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार(Types of Computer Based on Mechanism) :- 

 

दोस्तों इसमें सभी computers को अपने अपने कार्यों के प्रकार के हिसाब से बाँटा गया है.  दोस्तों कार्यप्रणाली के आधार पर computers को तीन भागों में विभाजित किया जाता है तो हम यह जान लेते हैं कि यह 3 भाग कौन-कौन से होते हैं:-

 

i) Analog Computer

ii) Digital Computer

iii) Hybrid Computer

दोस्तों अब हमलोग इन तीनों computers को detail में जानेंगे :-

 

जरूर पढ़ें:-  Processor क्या है? पूरे विस्तार में हिंदी में जानकारी

 

i) Analog Computer:-

 
Types of Computer in Hindi. Computer ke prakar
Speedometer is a example of Analog Computer



  1. Analog computer वो computer है जिसकी मदद से हम लोग  Analog डाटा को ही प्रोसेस  कर सकते हैं.
  2. यह केवल Analog सिग्नल को ही ग्रहण करने और उसे प्रोसेस करने के लिए बना होता है. 
  3. यह Continuous data को ही अपने काम में लेता है.दोस्तों अगर आप नहीं जानते हैं तो  continuous data वो data है  जिसमें एक range के अंतर्गत हम कोई भी value ले सकते हैं. 
  4.  analogue computer  का उपयोग वहीं पर होता है जहां एग्जैक्ट या सटीक डाटा की जरूरत नहीं पड़ती है जैसे:-  दाब(Pressure), ऊंचाई(Height), गति(Speed) इत्यादि.
  5. Analog computer कोई भी डाटा को  convert किए बिना उसे  directly  Analogue measuring instrument के उपयोग से  measure कर  लेता है. 
  6.  analogue computer की मदद से हम लोग कोई भी भौतिकी इकाइयों( physical quantities) जैसे:-   दाब( pressure), ऊंचाई( height), तापमान( temperature), लंबाई( length),  गति( speed) को मापने के लिए use किया जाता है. 

 

Analogue computer के फायदे. Advantages of Analog Compute:-

 

  1.  Analog computer की मदद से हम लोग real Time data को  calculate कर सकते हैं. 
  2. Analog computer डाटा को  convert किए बिना ही measure कर सकता है इसीलिए हमें  real Time डाटा का फायदा  Analog computer में मिलता है.
  3. बहुत सारे  rocket और  spacecraft में भी कुछ important studies के लिए  भी Analog  devices का उपयोग किया जाता है.
  4. Analog computer का परिणाम या आउटपुट  एक  reading के रूप में होता है जिसे हम Analog computer के dial में बहुत ही आसानी से देख सकते हैं.
  5. इस computer को कोई भी आम आदमी बड़े ही आसानी से समझ सकता है.
  6. Analog computer बोहोत ही fast होती है.

 

Analog computer के नुकसान. Disadvantages of Analog Computer:-

 

  1. Analog computer accurate data नहीं देता है.
  2. Analog computer में परिणाम को store करने के लिए memory उपलब्ध नहीं होती है.

 

Analog Computer का उपयोग कहां कहां होता है? Applications of analogue computer:-

 

 Analog computer का उपयोग ज्यादातर  scientific और engineering field में Analog डाटा को मापने के लिए किया जाता है. अक्सर हम घरेलू  क्षेत्र में भी Analog computer जैसे  thermometer का उपयोग करते हैं.

 

  1.  गाड़ियों में speedometer  का उपयोग  गाड़ियों की गति मापने के लिए किया जाता है.  और यह  speedometer एक Analog computer है.
  2. किसी भी वस्तु या पदार्थ का तापमान मापने के लिए हम तापमान मापी या  thermometer का use करते हैं और यह Thermometer एक Analog computer ही है.
  3. हमलोग weight measurement के लिए weighing मशीन का उपयोग करते है.और यह एक analog computer है.
  4. computer का उपयोग Industry और  science की दुनिया में किया जाता है.

 

ii) Digital Computer:-

 
  1. Digital Computer वह computer है जो  डाटा को इनपुट के रूप में लेती है  और उस डाटा को प्रोसेस करने के बाद output के रूप में परिणाम  दिखाती है.
  2.  यह हमारे द्वारा दिए गए इनपुट डाटा को बाइनरी लैंग्वेज (0,1) के फॉर्म में लेती है. जिसमे 0 का मतलब है off और 1 का मतलब है on.
  3. इस computer की मदद से हम लोग  अंक गणितीय और तार्किक (Arithmeticial and Logical) संबंधी सारे operations कर सकते हैं.
  4. इन computers का उदाहरण जैसे:-  हमारा  desktop,  laptop,  notebook,  mobile और  tablet इत्यादि हो सकते हैं. 

 

Digital computer के फायदे. Advantages of Digital Computer:-

 

  1. जैसे कि हमने देखा था कि Analog computer में  आउटपुट डाटा को store करने की क्षमता नहीं होती  है  पर ठीक इसके विपरीत एक डिजिटल computer में बहुत ज्यादा मात्रा में आप आउटपुट डाटा को  store कर सकते हो.
  2. जैसे आप Analog computer को एक ही  उद्देश्य के लिए use करते थे ठीक इसके विपरीत डिजिटल computer को आप बहुत सारे अलग-अलग उद्देश्य के लिए use कर सकते हैं.
  3.  डिजिटल computer में आपको अलग-अलग कामों को करने के लिए software या एक प्रोग्राम की जरूरत पड़ती है जिससे आप आसानी से एक ही डिजिटल computer में एक से ज्यादा काम कर सकते हो.
  4. इन computers  से निकला आउटपुट बहुत ही सटीक और accurate होता है.  इनमें गलती की आशंका बहुत कम होती है.
  5.   इन computers में नई तकनीकी को हम बहुत  आसानी से add कर सकते हैं. एक प्रोग्राम या software के जरिए.
  6.  यह computer सस्ते होते हैं.

 

डिजिटल computer के  नुकसान. Disadvantages of Digital Computer:-

 

  1. इन computers को Operate के लिए आपको Train होने की जरूरत है.
  2. यह Computers को operate करने के लिए Analog computer की अपेक्षा ज्यादा  उर्जा की खपत होती है.
  3.  इन computer के प्रोग्राम में अगर कुछ भी चुक हो जाती है तो डिजिटल computer के  उस प्रोग्राम को फिर से restore करना पड़ेगा.
  4. इस सर्किट कभी कबार बहुत महंगे  आते है. 

 

Digital Computer का उपयोग कहां-कहां होता है? Applications of Digital Computer:-

 

  1. Digital Computer का use commercial use जैसे Industry में, Schools में इत्यादि में होता है.
  2. Digital Computer सस्ते होने की वजह से घरेलू उपयोग के लिए भी use किया जाता है.

 

iii) Hybrid Computer:-

 

  1. हाइब्रिड computer एक ऐसा computer है जो Analog computer और डिजिटल computer के फीचर्स को मिलाकर बनाया गया है.
  2. यह computer Analog computer के जैसे  तेज और डिजिटल computer की तरह सटीक होती है. 
  3.  इसमें आउटपुट रिजल्ट को स्टोर करने की भी क्षमता होती है.
  4.  यह computer Analog डाटा को स्वीकार करता है  और उस Analog डाटा को डिजिटल डाटा में convert करके उस डाटा को प्रोसेसिंग के लिए भेजता है.
  5. इन computers में दोनों Continuous data और Discrete data  पर काम करने में सक्षम है.

 

हाइब्रिड computer के फायदे. Advantages of Hybrid Computer:-

 

  1. यह computer Analog और डिजिटल  दोनों के काम कर सकता है.
  2.  Continuous और Discrete data  पर काम करने में सक्षम है.
  3. इस computer की Processing power ज्यादा होती है Analog computer की तरह.
  4. computer की मदद से हम real Time मैं क्रिटिकल ऑपरेशन कर सकते हैं. 
  5. इस computer की प्रोसेसिंग power ज्यादा होने की वजह से परिणाम बहुत जल्दी  मिल जाता है और इन computer के परिणाम डिजिटल computer की तरह सटीक भी होते हैं.

 

हाइब्रिड computer के  नुकसान. Disadvantages of Hybrid Computer:-

 

  1. हाइब्रिड computer्स बहुत महंगे होते हैं.
  2. इन computers को design करना बहुत ही मुश्किल होता है. 
  3.  इन computer  को operate करने के लिए एक Trained ऑपरेटर होना चाहिए.

 

Hybrid Computer का उपयोग कहां-कहां होता है? Applications of Hybrid Computer:-

 
Hybrid computer का उपयोग petrol pump में petrol और desil निकलने वाली मशीन में किया जाता है. यह computer उसमे कितने लीटर पेट्रोल और डीजल निकाल रही है और उतने लीटर पट्रोल और डीजल की price कितनी है यह calculate करता है.
 

उद्देश्य के आधार पर कंप्यूटर Computer kitne prakar ke hote hain?

 

2. उद्देश्य के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार(Types of Computer Based on Purpose):-

 

Computer को उद्देश्य के आधार पर दो भागों में बंटा गया है.:-

 

i) Special Purpose Computer

ii) General Purpose Computer

तो दोस्तों हम लोग इन दोनों के बारे में भी जान लेते है-

 

i) Special Purpose Computer:-

 

  1. जैसे की हम नाम से ही समझ पा रहे है की इसे किसी secial purpose या उद्देश्य के लिए उपयोग किया जाता है.
  2. इन computer का उपयोग केवल एक ही काम को करने के लिए होता है.  इन computer के उपयोग से केवल आप एक  dedicated काम को ही कर सकते हैं.
  3. यह computer जिस काम के लिए बना होता है वह उस काम को बहुत ही अच्छी तरीके से करता है. 
  4.  secial purpose computer पूरी तरीके से  general purpose computer की तरह ही होता है लेकिन स्पेशल  purpose computer में हम लोग बस एक ही काम कर सकते हैं और  general purpose computer में हम लोग  multiple काम को एक साथ कर सकते हैं.
  5. computer के Program को आप re-right नहीं कर सकते हो.या आप इसपे दुसरे Program या software install नहीं कर सकते.

 

Special Purpose Computer के फायदे. Advantages of Special Purpose Computer:-

 

  1.  Special Purpose Computer को जिस काम के लिए बनाया होता है उस काम को बहुत ही सटीक और अच्छे तरीके करता है.
  2. जैसे हम लोग जानते हैं कि इस computer  को एक ही  task  को करने के लिए बनाया जाता है इसकी वजह से इस computer की  processing speed बहुत ही ज्यादा fast होती है.

 

Special Purpose Computer के  नुकसान. Disadvantages of Special Purpose Computer:-

 

  1. Special Purpose Computer को केवल एक ही task perform करने के लिए उपयोग किया जाता है. पर हम लोग कोई और task perform नहीं कर सकते.
  2. computer के Program को आप re-right नहीं कर सकते हो.

 

Special Purpose Computer का उपयोग कहां-कहां होता है? Applications of Special Purpose Computer:-

  1. इस computer का उपयोग Traffic lights में किया जाता है.
  2. जब भी हम लोग कोई भी govt online exam देते समय भी Special Purpose Computer का use करते है.
  3. कोई भी gaming device जैसे play stations, Xbox आदि एक Special Purpose Computer के उधाहरण है.
  4. इसको weather forecasting में भी उपयोग में लाया जाता है.

 

ii) General Purpose Computer:-

 

  1. General Purpose Computer वह computer है जिसका उपयोग हम अपने रोज की जिंदगी में करते हैं.
  2.  इन  computers में हम अपने हिसाब से  software या program का use कर सकते हैं जिसका हम use करना चाहते हैं.
  3. General purpose computer में software Rewrite करने की सुविधा दी  जाति है.
  4. अभी के समय में  general purpose computer का उपयोग बहुत ही ज्यादा बढ़ गया है. 

 

General Purpose Computer के फायदे. Advantages of General Purpose Computer

 

  1. इन  computers को बहुत सारे उद्देश्य के लिए use किया जा सकता है.
  2.  इनमें उपलब्ध software को हम  rewrite कर सकते हैं. 
  3.  general purpose computer में  multitasking जैसे features मौजूद होता है जिसकी वजह से हम एक ही समय में बहुत सारे काम कर सकते हैं.

 

General Purpose Computer के  फायदे. Advantages of General Purpose Computer

 

  1. इन computer की मदद से आप बहुत सारे काम कर सकते हैं.
  2. उसमें आप दूसरे  software  install कर सकते हैं और उसे run कर सकते हैं.
  3.  इसमें  software को rewrite करने का   feature मौजूद है. जिस के उपयोग से हम कोई भी   installed software को computer से uninstall भी सकते हैं और अन्य software को Install भी कर सकते हैं.

 

General Purpose Computer के नुकसान. Disadvantages of General Purpose Computer

 

  • इन computer’s की processing speed Special Purpose Computer के comparison से कम होती है.क्योंकि इसका उपयोग multiple काम को एक साथ करने में use होता है.और Special Purpose Computer केवल एक ही काम को बार बार करता है.

 

General Purpose Computer का उपयोग कहां-कहां होता है? Applications of General Purpose Computer:-

  1. General Purpose Computer का उपयोग किसी office में important डाटा को Store करने या  documentation के लिए use किया जाता है.
  2.  Education purpose  के लिए भी General Purpose Computer का उपयोग किया जाता है.
  3. Calculations  को करने के लिए.
  4. घरेलू उपयोग में जैसे:-  movieदेखने के लिए,  painting इत्यादि.
  5. आप यह भी बोल सकते हो की सारे Micro Computer, General Purpose Computer होते है.
 

आकार के आधार पर Computer kitne prakar ke hote hain?

3. आकार के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार (Types of Computer Based on Size):-

दोस्तों computer को computer के  Based on Size मुख्य रूप से चार भागों में विभाजित किया गया है:-

i)  Super Computer

ii) Mainframe Computer

iii) Mini Computer

iv) Micro Computer

 

i) Super Computer:-

 
super computer
super computer

 

 

  1. Super Computer पूरे computer श्रेणी का  सबसे बड़ा और सबसे तेज computer है.
  2. यह multi user और multiprocessor computer होते हैं.
  3.  multiprocessor होने की वजह से एक सुपर computer एक सेकंड में trillions या उससे भी ज्यादा  instruction को process करता है.  जो एक  normal computer के बस की बात नहीं है.
  4. सुपर computer  complex से complex problem  को चुटकियों में solve कर देता है.
  5.  सुपर computer में   parallel processing का use़ होता है. इसमें हर एक CPU को  parallelly  connect किया जाता है जिसकी मदद से एक ही समय में बहुत सारे  CPU काम करते हैं  जिसके वजह से processing speed अन्य computer के मुकाबले बहुत ही ज्यादा होती है. 
  6. सुपर computer सबसे महंगे computer होता है. 
  7.  इन computer में  storing capacity भी बहुत ज्यादा होती है
  8.  इन computer का इस्तेमाल ज्यादातर  engineering, medical और science के  field में होता है 

 

Application Of Supper Computer? Supper Computer कहां-कहां उपयोग होता है?

 

  1.  सुपर computer ज्यादातर Scientific और engineering में  Complex problem को solve करने के लिए किया जाता है.
  2. यहां stock market और online currency  के लिए एक अहम भूमिका अदा करता है
  3.  सुपर computer   medical  के क्षेत्र में भी अहम भूमिका निभाता है. जैसे कि:-  brain stroke या  brain injury का पता करने के लिए.
  4.  इन computer का use weather forecasting के लिए भी किया जाता है.
  5.  यह computer nuclear research के क्षेत्र में भी अहम भूमिका निभाता है.
  6. सुपर computer का use हमारे  solar system और  satellites की गतिविधियों का  सटीक तरीके से पता लगाने के लिए किया जाता है.
  7.   यह  military research  जैसे कामों को करने के लिए  defence  system को  help करता है.

 

भारत का पहला सुपर computer  का नाम परम 8000 है  जिसको जुलाई 1998 में बनाया गया था.भारत का सबसे तेज सुपर computer विक्रम 100 है इसे ISRO द्वारा बनाया गया है.

 

 विश्व का सबसे पहला सुपर computer का नाम Cray-1 है  जिसे अमेरिका के द्वारा बनाया गया था. और विश्व का सबसे तेज सुपर computer Tianhe-2 है जिसे चीन के द्वारा बनाया गया है.

 

ii) Mainframe Computer:-

 

  1. Mainframe computer एक multi user computer है.जिसकी मदद से एक बार में एक Mainframe computer में 1000 से ज्यादा लोग जुड़ सकते हैं. और सारे  user एक ही Time पर  एक साथ different काम कर सकते है. 
  2. यह computer super computer से थोडा छोटा होता है.
  3.  इस computer का उपयोग bulk  मे  data transfer करने के लिए होता है. 
  4. इस computer के द्वारा एक सेकंड में  millions of instruction को   process किया जा सकता है 
  5.  Mainframe computer भी सुपर computer की तरह ही होता है पर सुपर computer  अपने   processing power को कुछ dedicated कामों को करने के लिए ही use करता है.  लेकिन Mainframe computer अपने  processing power की मदद से बहुत सारे  different different काम  को  execute करता है.
  6. Mainframe computer का उपयोग बड़े-बड़े  organisations जैसे  Bank,   telecommunication sector मैं बहुत सारे  data को एक साथ  manage करने के लिए  किया जाता है.
  7. Mainframe computer में   error आने के  chance बहुत ज्यादा कम होते हैं अगर  by chance कोई  error आ भी जाता है तो उसे बहुत जल्दी ठीक कर लिया जाता है और यह computer performance को कोई   effect नहीं करता. 

 

Application Of Mainframe Computer? Mainframe Computer कहां-कहां उपयोग होता है?

 

  1. Mainframe computer बड़े   organisation को  manage करने के लिए use किया जाता है. जैसे  Bank, telecommunications sector,  online examination,  hospitals इत्यादि
  2.  उन हर बड़े  organisations जहां bulk  मैं  data transfer की जरूरत होती है वहीं पर Mainframe computer का use किया जाता है.

 

विश्व का सबसे पहला  Mainframe computer  का नाम UNIVAC (Universal Autometic Computer) है  जिसे US के द्वारा 1951 को बनाया गया था. 


iii) Mini Computer:-

 

  1. Mini computer भी एक multi-user और मल्टिप्रोसेसर computer Mini computer में भी दो या दो से ज्यादा  processor लगे हो सकते हैं.
  2.  Mini computer Micro computer की अपेक्षा  कम  powerful और  size में छोटे होते हैं
  3.  Mini computer को करीब  एक बार में 200 user use कर सकते हैं
  4. Mini computer mainframe computer को  सस्ते होते हैं. 

 

Application Of Mini Computer? Mini Computer कहां-कहां उपयोग होता है?

 

  1. Mini computer का भी उपयोग  organisation में जैसे  University, Bank, Hospital, Industry इत्यादि में data Collection का काम करता है. 
  2. computer का उपयोग  Industrial process control करने के लिए किया जाता है.
  3. अगर का उपयोग भी  scientific research और  engineering analysis को करने के लिए भी use किया जाता है.

 

 विश्व का सबसे पहला  Mini computer  का नाम PDP-1 है जिसे US के द्वारा बनाया गया था. जिसे 1958 को बनाया गया था.


iv) Micro Computer:-

 

  1. Micro computer सारे में से सबसे छोटा आकार का computer होता है.
  2.  इस computer में Single processor का  उपयोग  किया जाता है.
  3. computer की मदद से एक Time पर एक ही  user काम कर सकता है.
  4.  Micro computer में  multitasking कर सकते हो.
  5.    यह computer सबसे सस्ती होती है.
  6.   इस computer को हम लोग General purpose computer भी बोलते हैं क्योंकि इससे  general purpose के लिए use किया जाता है इसे कोई भी खरीदी कर अपने काम के लिए use कर सकता है
  7.  Micro computer को Personal computer के नाम से जानता है. 
  8. एक Micro computer में एक सिंगल Microprocessor, RAM, ROM, INPUT and OUTPUT devices मौजूद होते हैं. 
  9.  आप लोग जितने भी Desktop, laptop, notebook, Chromebookदेखते हो वह सभी Micro computer के ही उदाहरण है. 
  10. Micro Computer को personal Computer भी बोला जाता है.

 

Application Of A Micro Computer? Micro Computer कहां-कहां उपयोग होता है?

 

  1. Micro computer का उपयोग पर्सनल computer के रूप में  उपयोग किया जाता है.
  2.  Micro computer का उपयोग   office में, स्कूल में, कॉलेज में, students और employees के द्वारा किया जाता है.
  3.  Micro computer को घरेलू  प्रयोग में भी लाया जाता है जैसे  movie देखना वीडियो  games खेलना  इत्यादि.

personal computer ke prakar या Micro Computer के प्रकार

 
Types of Micro Computer
Personal computer ke prakar

 

दोस्तों micro कंप्यूटर या Personal Computer ke prakar के अंतरगर्त बोहोत सारे ऐसे कंप्यूटर आते है जिन्हे आप उपयोग कर चुके होंगे।:-
  1. Desktop Computer:- इसे आप अपने डेस्क पे रख के चला सकते हो. यह थोड़ा बड़ा होता है.और इसे एक जगह से दूसरी जगह तक आसानी से ले के नहीं सकते।
  2. Laptop Computer:- यह डेस्कटॉप कंप्यूटर से बोहोत छोटा होता है और इसे एक जगह से दूसरी जगह तक आसानी से ले के जा सकते।
  3. Palmtop Computer:- यह कंप्यूटर लैपटॉप से छोटा और इसे हम अपने palm यानि हथेली पे रख कर ही चला सकते है. जैसे :- Mobile , Laptop etc.

 

Final Words

 

दोस्तों मेरे को यह आशा है की आप सभी को मेरे द्वारा लिखा गया यह article Computer kitne prakar ke hote hain,Types of Computer in Hindi और Personal computer ke prakar पसंद आया होगा. अगर आपको कोई सवाल या सुझाव हो या कोई और topic पे article चाहिए तो आप कृपया करके comment section पे comment करे या आप हमारे official mail ID techreviewpad@gmail.com पर mail कर सकते है.

दोस्तों अगर आपको article पसंद आया तो आप इस article को अपने दोस्तों और घर वालो के साथ share जरुर करे. और ऐसे ही technology related knowledge पाने के लिए SUBSCRIBE जरुर करे Thank You!!!!!

 

Spread the love

Leave a Comment